आओ देखें ज़रा कैसा लगता है
जब हो बे-आसमाँ सर,
ना ज़मीं पैर तले
चल परे

आओ देखें ज़रा हाथ खाली कर
फ़ाएदे से, मुनाफ़े से,
दायरों से ज़ेहन के
चल परे,
चल परे!

किसी कच्चे रस्ते पर,
निकल पक्के आँगन से परे
बंदिशों की घुटन से परे
खुद से, सब से परे

देख! वो काएनात रखी तेरे लिए!

आओ ढूंढें ज़रा वो मासूमियाँ,
वो हसी बे-बुनियाद,
वो बस्ता काँधे पे लाद,
चल परे

आओ लौटें ज़रा समझ ना पाने में
गैर की, अपने की,
दुनिया की असलियत से
चल परे,
चल परे!

किसी कच्चे रस्ते पर,
निकल पक्के आँगन से परे
बंदिशों की घुटन से परे
खुद से, सब से परे

देख! वो काएनात रखी तेरे लिए!

आओ देखें ज़रा ये लुत्फ़ कहाँ है?
सोने की चमक में है क्या?
सिक्कों की खनक में है क्या?
फिर बेज़ारी है क्यों?
ये दिल भारी है क्यों?

ये आईने में जो खड़ा है,
ये क्यों हस पड़ा?

Aao dekhei.n zara kaisa lagta hai,
jab ho be-aasmaa.n sar,
na zamee.n paer taley,
chal parey

Aao dekhei.n zara haath khaali kar
fayede se, munaafey se,
daayro.n se zehen ke,
chal parey,
chal parey!

Kisi kachhe raste par,
nikal pakke aangan se parey
bandisho.n ki ghutan se parey
khud se, sab se parey

Dekh! Wo kaaynaat rakhhi tere liye!

Aao dhundhei.n zara wo maasumiyaa.n
wo hasi be-buniyaad,
wo basta kaandhe pe laad,
chal parey

Aao lautei.n zara samajh na paane mei.n
gaer ki, apne ki,
duniya ki asliyat se,
chal parey,
chal parey!

Kisi kachhe raste par,
nikal pakke aangan se parey
bandisho.n ki ghutan se parey
khud se, sab se parey

Dekh! Wo kaaynaat rakhhi tere liye!

Aao dekhei.n zara ye lutf kahaa.n hai?
Sone ki chamak mei.n hai kya?
Sikko.n ki khanak mei.n hai kya?
Phir bezaari hai kyu.n?
Ye dil bhaari hai kyu.n?

Ye aayine mei.n jo khada hai,
ye kyu.n has pada?

There are currently not any Parey – Lyrics available.